संस्थान का परिचय

इस संस्थान का आरम्भ राजेश सर ने 1996 में किया था। इस संस्थान की शुरुवात एक बहुत ही छोटे से कमरे से हुई थी। इन 24 सालों में बडों के आर्शिवाद तथा राजेश सर व साथी अध्यापकों की कठिन मेहनत से यह संस्थान आज ऊंची बुलंदियों पर है। इसमें सभी परिश्रमी विद्यार्थियों की भागेदारी को भी अनदेखा नहीं किया जा सकता।

विभिन्न पदों की जानकारी

प्रिय छात्रों भारत सरकार के माध्यम से जो भी विभिन्न पदों की भर्ती होती है हमें उसके बारें में जानकारी होनी चाहिए, ता कि हम उसके अनुसार अपनी तैयारी पुख्ता कर सकें।
कर्मचारी चयन आयोग विभिन्न मंत्रालयों और विभागों में विभिन्न पदों के लिए भर्ती और स्टाफिंग के लिए भारत सरकार के अधीन एक संगठन है। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है और यह DoPT (कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग) के साथ जुड़ा हुआ है। यह SSC CGL, SSC CHSL, SSC JE, SSC SI ASI, SSC JHT, आदि सहित कई परीक्षाओं के माध्यम से उम्मीदवारों को भर्ती करता है। चयनित उम्मीदवारों को ग्रेड- 'बी' और 'सी' पैमाने के तहत नियुक्त किया जाता है। SSC, UPSC के बाद सरकारी नौकरियों के लिए दूसरी सबसे लोकप्रिय संस्था है और सरकारी नौकरियों के तहत कर्मचारियों की नियुक्ति के इतने उम्मीदवारों के परीक्षा का आयोजन करने वाली सबसे बड़ी संस्था है।
इसलिए, SSC नौकरियों के लिए आवेदन करने वाले विभिन्न शैक्षणिक पृष्ठभूमि से जुड़े कई उम्मीदवार आते हैं और प्रतियोगिता का स्तर साल दर साल में तेजी से बढ़ रहा है। हालांकि, उम्मीदवारों पर SSC परीक्षा में सफल होने के लिए भारी दबाव होता है। कई ऐसे उम्मीदवार होते हैं, जो स्वयं तैयारी करते हैं जबकि कई अन्य कोचिंग केंद्रों में ट्यूशन लेने का फैसला करते है। SSC की तैयारी में कोचिंग केंद्र सबसे प्रमुख और व्यवहारिक घटक हैं और विशेषकर उन उम्मीदवारों में अधिकांश, जिन्होंने हाल ही में अपनी इंटरमीडिएट कक्षा में प्रवेश किया है या विश्वविद्यालय से स्नातक की उपाधि प्राप्त की है।

हमें अपनी तैयारी कैसे करनी चाहिए

आज जिस तरह से हर कोई युवा कोई न कोई प्रतियोगी परीक्षा दे रहा है और सभी लोग सफलता की दौड़ में लगे हुए है। कुछ लोग इस दौड़ में सफलता प्राप्त कर लेते है तो कोई इस दौड़ में पीछे छूट जाता है और असफल हो जाता है। सफलता हासिल करने का पहला मंत्र है कड़ी मेहनत, कड़ी मेहनत का कोई शॉर्टकट नहीं होता। प्रतियोगी परीक्षाओं में अगर आप सफल होना चाहते है तो, आपको अपना सर्वश्रेष्ठ देना होगा। प्रतियोगी परीक्षाओ में सफल होने वाले विद्यार्थी अपनी कमियों को दूर करते हुए सिलेबस के अनुरूप पढाई करते है। अगर आप कुछ बातों को ध्यान में रखकर प्रतियोगी परीक्षाओ की तैयारी करते है तो उन्हें सफलता अवश्य मिलती है। इसलिए यहाँ पर आपको कुछ खास मार्गदर्शन दिए जा रहे है जिन्हें आपको अपने जीवर में जरुर अपनाना है।
किसी भी परीक्षा की तैयारी के दौरान नकारात्मक विचारों से दूर रहे, हमेशा सकारात्मक विचार रखे, कई घंटे पढाई करने से अच्छा है की कुछ घंटे ध्यान लगाकर पढाई करे। माना अगर आप 10 से 12 घंटे पढ़ते है और आपको इन 12 घंटो में सिर्फ 50% ही आये तो यह गलत है। कुछ देर ही सही पर मन को एकाग्र रखकर पढाई करे। हमेशा खुश रहने की कोशिश करे, यह आपको तनाव से भी बचाएगा। इससे पढाई में मन लगेगा और आप बेहतर performance देने में कामयाब होंगे।
हर परीक्षा में प्रश्न सिलेबस के अनुसार ही पूछे जाते है। आपके लिए बेहतर होगा की आप जिस परीक्षा की तैयारी कर रहे है, उसके सिलेबस का गहन अध्ययन करे। अगर आप सिलेबस के अनुरूप study करते है, तो आप परीक्षा हाँल में ज्यादा से ज्यादा प्रश्न हल करने में कामयाब होंगे। अक्सर विद्यार्थी सिलेबस को ignor करके shortcut अपनाते है। इस तरह के Student पढाई करने के बावजूद अपने लक्ष्य नहीं प्राप्त कर पाते है। अगर आपको सफल होना है, तो आपको अपने सिलेबस में command किसी भी हालत में करना ही होगा। अगर इस तरह की सोच रखकर आप किसी भी परीक्षा की तैयारी करते है, तो आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता है।

प्रारम्भ में जाने के लिए click करें।